breaking news New

राज्यपाल ने पुलिस स्मृति दिवस पर पुलिस के शहीद जवानों को दी श्रद्धांजलि, कहा : शहीदों के बलिदान से सदैव युवाओं को मिलती है प्रेरणा

राज्यपाल ने पुलिस स्मृति दिवस पर पुलिस के शहीद जवानों को दी श्रद्धांजलि, कहा : शहीदों के बलिदान से सदैव युवाओं को मिलती है प्रेरणा

रायपुर, 21 अक्टूबर, 2019
राज्यपाल अनुसुईया उइके और गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने आज पुलिस स्मृति दिवस के अवसर पर चौथी बटालियन सी.ए.एफ. माना में वीर शहीदों को पुष्पचक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। राज्यपाल ने कहा कि आज के दिन हम उन शहीद जवानों को याद करते हैं, जो अपने कर्त्तव्य निर्वहन के दौरान वीरगति को प्राप्त हुए। साथ ही आज का दिन हमें उन वीर जवानों की अप्रतिम शौर्य गाथा की याद दिलाता है, जिन्होंने मातृभूमि की सेवा के लिए अपना सब कुछ अर्पित कर दिया। उनके साहस और पराक्रम की गाथाएं, हमारे युवाओं को हमेशा प्रेरित करती रहेंगी। ऐसे वीर सपूतों को जन्म देने वाले माता-पिता तथा उनके परिजनों को मैं प्रणाम करती हूं।


राज्यपाल उइके ने कहा कि समाज में कानून व्यवस्था एवं शांति बनाए रखने के लिए, पुलिस के जवान हमेशा निष्ठापूर्वक जिम्मेदारियों का निर्वहन करते हैं। जब सभी नागरिक उल्लासपूर्वक त्यौहार मनाते हैं, तब भी ये जवान अपने परिजनों से दूर रहकर अपनी ड्यूटी पर तैनात रहते हैं। यह गौरव का विषय है कि छत्तीसगढ़ पुलिस के जवानों ने विपरीत परिस्थितियों में भी हर चुनौती का सामना बहादुरी से किया है, चाहे इसके लिए उन्हें अपने प्राणों की आहुति ही क्यों न देनी पड़ी हो। नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में तैनात हमारे जवान अत्यंत सूझबूझ एवं साहस के साथ नक्सलियों का सामना करते हैं। हम हमेशा उनके प्रति ऋणी रहेंगे। उनकी बदौलत ही हम सब खुशहाली और अमन चैन से रहते हैं।

राज्यपाल ने कहा कि प्रदेश के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों के सुदूर अंचलों के लोगों में चेतना आई है और वे भी अन्य क्षेत्रों के निवासियों की तरह विकास चाहते हैं। विकास की रोशनी वहां तक पहुंच सके और वे देश की मुख्यधारा से जुड़ सकें, इसके लिए शासन द्वारा अनेक जनहितैषी योजनाएं एवं कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। इनके बेहतर क्रियान्वयन के लिए शासन एवं प्रशासन सजग है। इन क्षेत्रों में अधोसंरचना एवं संचार के साधनों को मजबूत किया जा रहा है। युवाओं को शिक्षा उपलब्ध कराने एवं रोजगार से जोड़ने के लिए हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। राज्यपाल ने शहीदों के परिजनों से मुलाकात कर उनकी समस्याओं के बारे में जानकारी ली और समाधान करने का आश्वासन दिया।

गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार प्रदेश में शांति एवं व्यवस्था बनाए रखने के लिए वचनबद्ध है। हम नक्सली समस्या के समाधान के लिए गंभीर हैं। अल्प समय में ही प्रदेश में नक्सली वारदातों में काफी कमी आई है, जो कि हमारी सरकार के गंभीर प्रयासों का ही परिणाम है। उन्होंने आशा व्यक्त करते हुए कहा कि नक्सली समस्या का शीघ्र स्थाई समाधान निकाल पाने में हम निश्चित ही सफल होंगे। राज्य सरकार नक्सल प्रभावित क्षेत्र के निवासियों एवं युवाओं को विकास की मुख्यधारा में सम्मिलित करने के लिए अनेक रचनात्मक एवं कल्याणकारी योजनाएं संचालित कर रही है। नक्सल आंदोलन से अलग होने वाले युवाओं के पुनर्वास के लिए भी हमारी सरकार दृढ़ संकल्पित है।

पुलिस महानिदेशक डी.एम. अवस्थी ने कहा कि पुलिस विभाग राज्य में कानून एवं व्यवस्था स्थापित करने में तथा नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में व्याप्त नक्सली गतिविधियों का मुकाबला करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। उन्होंने कहा कि माओवाद अशांति सह प्रजातांत्रिक व्यवस्था के विरूद्ध सक्रिय है तथा समूचा पुलिस बल निष्ठापूर्वक अदम्य साहस एवं ऊर्जा के साथ कर्त्तव्यस्थ है।
इस अवसर पर विधायक सत्यनारायण शर्मा, विधायक अनिता शर्मा, गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव सी.के. खेतान, जेल एवं होमगार्ड के महानिदेशक विनय कुमार सिंह, सेवानिवृत्त पुलिस महानिदेशक ए.एन. उपाध्याय, गृह विभाग के सचिव अरूण देव गौतम सहित वरिष्ठ विभागीय अधिकारी एवं पुलिस के जवान तथा शहीदों के परिजनों के परिजन उपस्थित थे।