breaking news New

बड़ी खबर : बाल श्रम की शिकायत पर बाल आयोग की अध्यक्ष मिली असम के पीड़ित मजदूरों से...फैक्ट्री संचालक के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का दिया भरोसा...बंधक बनाकर नाबालिगों से है भारी उद्योग में मजदूरी कराने का मामला

बड़ी खबर : बाल श्रम की शिकायत पर बाल आयोग की अध्यक्ष मिली असम के पीड़ित मजदूरों से...फैक्ट्री संचालक के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का दिया भरोसा...बंधक बनाकर नाबालिगों से है भारी उद्योग में मजदूरी कराने का मामला

रायपुर 

औद्योगिक क्षेत्र सिलतरा की तुषार एग्रो इंड्रस्ट्रीज में असम के सात मजदूरों से बंधक बनाकर श्रम कराने का मामला सामने आने के बाद अब तूल पकड़ने लगा है. वयस्क मजदूरों के साथ ही दो नाबालिग मजदूरों की संलिप्तता होने पर राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने इस मामले को बेहद गंभीरता से लिया है. 

आयोग की अध्यक्ष प्रभा दुबे ने आज सिलतरा स्थित तुषार एग्रो का निरीक्षण कर वहां रह रहे मजदूरों से इस संबंध में बातचीत की. उन्होंने कहा कि फैक्ट्री मालिक द्वारा लम्बे समय से लोहे का सामान बनाने वाली फैक्ट्री में नाबालिगों से काम लेना बेहद खतरनाक है, बाल श्रम अधिनियम इस बात की कतई इजाजत नही देता है कि नाबालिग बच्चों से भारी व खतरनाक उद्योगों में किसी भी प्रकार का श्रम कराया जाये. श्रीमती दुबे ने मजदूरों से मिले इनपुट के बाद फैक्ट्री संचालक के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई करने की बात कही है.

गौरतलब है कि तुषार एग्रो में असम के नाबालिग बच्चों से पांच हजार के मेहनताने पर बंधक बनाकर काम कराने का आरोप है. इतना ही नही संचालक ने लॉकडाउन होने पर अपने घर पर ही मजदूरों से काम लिया और बीते कई महीने का मेहनताना भी नही दिया.