breaking news New

सराही जा रही बाल आयोग की गतिविधियां, इन कार्यक्रमों के जरिये की जा रही लोगों को जागरूक करने की पहल...

सराही जा रही बाल आयोग की गतिविधियां, इन कार्यक्रमों के जरिये की जा रही लोगों को जागरूक करने की पहल...

रायपुर, 22 अक्टूबर 2019

छत्तीसगढ़ राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग द्वारा आयोग कार्यालय में दो कार्यशालाओं का आयोजन किया गया। प्रथम दिवस आंगनबाड़ी मितानिनों के लिए 'आह्वान' एवं द्वितीय दिवस दंपत्तियों के लिए 'समझदार पालक-सशक्त प्रदेश' विषय पर उन्मुखीकरण कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में आंगनबाड़ी मितानिनों और दंपत्तियों को सम्बोधित करते हुए छत्तीसगढ़ राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष प्रभा दुबे ने कहा कि आज व्यस्त जीवन होने के कारण माता-पिता बच्चों को पर्याप्त समय नही दे पा रहें हैं, जिससे बच्चों को उनका वास्तविक अधिकार नही मिल पा रहा है। उन्होंने कहा कि बच्चों को संस्कारवान व सशक्त बनाने के साथ ही सामाजिक और व्यवहारिक ज्ञान देने जरूरी है। दुबे ने बच्चों के चार अधिकार जीवन जीने का अधिकार, संरक्षण का, विकास का और सहभागिता का अधिकार देने पर जोर दिया।

कार्यशाला में आयोग के सचिव प्रतीक खरे ने प्रजेंटेशन के माध्यम से बाल अधिकार व संरक्षण के जरूरी पहलुओं पर चर्चा की। उन्होंने बच्चों के साथ भेदभाव न करते हुए एक समान व्यवहार करने की बात कही। खरे ने कहा कि बच्चे कोमल हृदय के होते हैं, उन्हें नैतिकता व संस्कार देना हम सबकी जिम्मेदारी है। उन्होंने कार्यकर्ताओं को बच्चों के साथ अधिक  संवेदनशीलता के साथ व्यवहार करने की अपील की। 


कार्यशाला में आयोग की सदस्य श्रीमती इंदिरा जैन एवं श्रीमती मिनाक्षी तोमर ने भी सम्बोधित किया।